Breaking

6/04/2019

अमेरिका के संविधान की विशेषताएं

नमस्कार दोस्तो एक बार फिर से स्वागत है आप सभी का www.khaskhabr.com में, संयुक्त राज्य अमेरिका के संविधान के मुताबिक अमेरिका मे राष्ट्रपति ही मुख्य कार्यपालिका का मुखिया तथा स्वामी होतो है जबकि भारत मे मुख्य कार्यपालिका का वास्तविक स्वामी प्रधानमंत्री होता है, आज हम जानेंगे विश्व के सबसे छोटे संविधान अर्थात अमेरिका के संविधान की विशेषताएं।  आखिर क्या लिखा है अमेरिका के संविधान है? तो चलऐ जानते है----
अमेरिका

अमेरिका के संविधान की विशेषताएं 

1. विश्व का सबसे संक्षिप्त संविधान
दोस्तो अमेरिका का संविधान आकार में विश्व मे सबसे छोटा संविधान है अगर कोई इसे अमेरिकी संविधान को पढ़ने बैठे तो वह इसे केवल 30 मिनट में ही पूरे संविधान को पढ़ सकता है। इसीलिए अमेरिकी संविधान के बारें में जॉन्सन महोदय ने कहा है कि", संविधान का ढाँचा बनाने वालों ने हमें अच्छा श्री गणेश कराया किन्तु आवश्यकतावश   उन्होंने शेष बातों को भविष्य पर ही छोड़ दिया है।
भारतीय संविधान में 395 अनुच्छेद है जबकि अमेरिका के संविधान मे 7 अनुच्छेद है।  अमेरिका के संविधान में केवल मूल बातों को ही लिखा गया है।
अमेरिका का तिरंगा
2. दोहरी नागरिकता 
अमेरिकी संविधान की दूसरी प्रमुख विशेषता यह है कि अमेरिका का प्रत्येक नागरिक दोहरी नागरिकता को धारण करता है। पहली नागरिकता उस राज्य की जहाँ वह रहता है और दूसरी नागरिकता अमेरिका की धारण करता है। उदाहरण के लिए आप अमेरिका के नागरिक है और अमेरिका के राज्य अलास्का के निवासी है तो आपकी एक नागरिकता अलास्का की होगी और दूसरी अमेरिका की। 
3. मौलिक अधिकारों का वर्णन
अमेरिकी संविधान में प्रत्येक नागरिक के लिए मौलिक अधिकारों का वर्णन किया गया है। नागरिको के मौलिक अधिकारों का लेखबध्द रूप से उल्लेख विश्व के अन्य संविधानों के लिए अमेरिका की ही देन है। जिसका अनुकरण भारत, जापान, पाकिस्तान, आयरलैंड आदि देशो के द्वारा भी किया गया है। अमेरिका के मौलिक अधिकारों में यह अधिकार शामिल है---
1. धर्म स्वतन्त्रता का अधिकार।
2. भाषा अभिव्यक्ति और प्रेस की स्वतन्त्रता का अधिकार।
3. शिक्षा का अधिकार।
4 . आवेदन पत्र देने का अधिकार।
5. शोषण के विरूध्द अधिकार।
इसके अलावा और भी अनके अधिकारों का वर्णन किया गया है।
4. कठोर संविधान
अमेरिका के संविधान की प्रमुख विशेषता यह है कि यह विश्व के सभी संविधानों में सबसे कठोर संविधान है। कठोर संविधान हम उस संविधान को कहते है, जिसमें परिवर्तन व संशोधन के साधारण व्यवस्थापन की विधि से भिन्न एक प्रकिया की व्यवस्था हो अर्थात साधारण कानूनों की तरह जिसमें परिवर्तन न किया जा सकें। अमेरिकी संविधान एक ऐसा ही संविधान है, जिसमें संविधान संशोधन के लिए उस प्रक्रिया से भिन्न प्रकिया को प्रयोग मे लाया जाता है। वस्तुतः संघीय संविधान के लिए यह अचलता (कठोरता) आवश्यक है। इसीलिए अमेरिका के संविधान को अचल बनाया गया है।
5. जनता का संविधान
अमेरिका के संविधान को जनता का संविधान भी कहा जाता है। क्योंकि इसका निर्माण जनता के प्रतिनिधियों द्वारा किया गया है। अमेरिका की जनता इसे सदियों से स्वीकार करती चली आयी है। संविधान की भूमिका मे लिखा गया है", हम संयुक्त राज्य अमेरिका के लोग संविधान का निर्माण करते व उसे प्रतिष्ठित करते है। इस संविधान का निर्माण इस सिध्दांत के आधार पर हुआ है कि जनता को आत्म निर्णय का अधिकार प्राप्त है। अमेरिका के संविधान को जनता का संविधान इसलिए भी कहा जाता है कि उसमें प्रभुता देश कि जनता में ही निहित है। जनता ने ही देश के शासन के ढाँचे को निर्धारित किया है तथा वही लोकतान्त्रिक ढंग से यह निर्णय करती है कि उसके प्रशासक कैसे होंगे। प्रभुता सम्पन्न होने के नाते जनता को यह अधिकार है कि वह किसी भी सरकार जो अपनी शक्तितों का दुरूपयोग करती है तो उसे अमेरिका की जनता बदल सकती है।
6. संघात्मक व्यवस्था
अमेरिका के संविधान के स्वरूप संघात्म है। अमेरिका मे 51 राज्य है और भारत की ही तरह केन्द्र और राज्यों के बीच शक्तियों का विभाजन किया गया है। अमेरिका मे न्यायपालिका संविधान के संविधान के संरक्षक के रूप मे काम करती है।
7. नियन्त्रण व सन्तुलन की व्यवस्था
अमेरिका मे सरकार के तीनों अंगो के लिए ऐसा प्रबन्ध कर दिया गया है कि तीनों आपस मे एक-दूसरे पर ऐसा नियन्त्रण बनाये रखें कि शक्ति का सन्तुलन बना रहे। 
उदाहरण के लिए राष्ट्रपति देश का प्रमुख कार्यपालक या स्वामी है। उसके बारें मे कहा जाता है", कि दुनिया मे वह सबसे अधिक शक्तिशाली कार्यपालक है। राष्ट्रपति कि शक्तियों पर अमेरिकी काँग्रेस का नियन्त्रण रहता है। वह राष्ट्रपति को अपनी शक्तियों के दुरूपयोग करने से रोकती है। काँग्रेस को अधिकार है कि वह प्रति वर्ष देश का बजट स्वीकार करे। यदि अमेरिका का राष्ट्रपति मनमानी करना चाहे और यदि धन व्यय करने की स्वीकृति न मिले तो राष्ट्रपति ऐसा नहीं कर सकता। दूसरी ओर राष्ट्रपति भी काँग्रेस की विधायी शक्तियों पर नियन्त्रण रखता है। काँग्रेस द्वारा पारित सभी विधायकों के लिए यह जरूरी है कि कानून बनाने से पहले राष्ट्रपति उन्हें स्वीकृति प्रदान करें। राष्ट्रपति को विधेयकों पर वीटो करने का अधिकार है। राष्ट्रपति को अधिकार है कि वह किसी विधेयक को स्वीकार करें या न करें इसी के साथ कांग्रेस को भी यह अधिकार है की वह राष्ट्रपति द्वारा अस्वीकृत विधेयक को पुनः पारित कर दे। तीसरी ओर विधायिका तथा कार्यपालिका पर न्यायपालिका का भी नियन्त्रण रहता है। न्यायपालिका, विधायिका तथा कार्यपालिका दोनों के कार्यों का पुनरीक्षण कर सकती है। यदि उनके कार्य संविधान के विरूध्द हैं तो वह उन्हें असंवैधानिक घोषित कर सकती है। इस प्रकार हम देखते है कि अमेरिका मे नियन्त्रण व सन्तुलन की व्यवस्था की गई है।
8. लिखित संविधान
अमेरिका का संविधान लिखित संविधान है जिसका निर्माण अमेरिका की जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों द्वारा किया गया है।
9. शक्तियों का विभाजन 
अमेरिका के संविधान की विशेषता यह है कि यहाँ कि अमेरिका में कार्यपालिका, विधायिका तथा न्यायपालिका तीनों की शक्तियों का अलग-अलग विभाजन है। संविधान के पहले अनुच्छेद में यह यह की गयी है कि", संविधान में दि गयी विधायी शक्तियाँ कांग्रेस में निहित होगी।"" संविधान के तीसरे अनुच्छेद मे लिखा है न्याय सम्बन्धी शक्ति एक सर्वोच्च न्यायालय तथा उन के नीचे के न्यायालय में होगी।
यह भी पढ़ें, पाकिस्तान के संविधान की विशेषताएं
10. अध्यक्षात्मक शासन
अमेरिका मे अध्यक्षात्मक शासन प्रणाली है। वहाँ राज्य का अध्यक्ष राष्ट्रपति होता है जो कार्यपालिका का वास्तविक स्वामी होता है। अमेरिका का राष्ट्रपति ब्रिटेन के राजा और भारत के राष्ट्रपति की तरह नाममात्र का कार्यपालक नही होता है। उसकी शक्तियाँ वास्तविक होती है उसके सभी मंत्री उसके प्रति उत्तरदायी होते है। अमेरिका का राष्ट्रपति 4 बर्ष के लिए चुना जाता है।
तो दोस्तो यह थी अमेरिका के संविधान की प्रमुख विशेषताएं आशा करता हूं आपको अमेरिका के संविधान की विशेषताएं जानने के बाद अमेरिका के संविधान को समझने में काफी मदद मिली होगी। अगर आपका इस लेख के सम्बन्ध मे आपका कोई विचार है तो नीचे comment कर जरूर बताएं, धन्यवाद।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें