Breaking

7/20/2019

जनजाति का अर्थ, परिभाषा और विशेषताएं

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आप सभी का https://www.khaskhabr.com मैं, जैसा की आप सब जानते है हमारा भारत विविधताओं वाला देश है, यहाँ अनेक जातियाँ- जनजाति, और अनेक धर्मों और भिन्न भाषा बोलने वाले समूह निवास करते है। आज के इस लेख मे हम जनजाति समाज के बारें मे विस्तार से चर्चा करेंगे।
जनजाति समाज

जनजाति का अर्थ 

भारत के विभिन्न क्षेत्रो में ऐसे मानव-समूह निवास करते है जो आज भी सभ्यता तथा संस्कृति से आपरिचित है। जो सभ्य समाजों से दूर जंगल, पहाड़ो अथवा पठारी क्षेत्रों मे निवास करते है। इन्ही समूहों को जनजाति, आदिम समाज, वन्य जाति, आदिवासी आदि नामों से जाना जाता है।
जनजाति समाज की संस्कृति अन्य समाजों से भिन्न होती है। उनके रीति-रिवाज, विश्वास, भाषा और स्थान अलग-अलग होते है। यदि व्यक्तियों का सामाजिक स्तर समान न हो तब भी उनमें स्तरीकरण एवं विलगता दिखाई नही पड़ती।
जनजाति का अर्थ के बाद अब हम जनजाति की परिभाषा और जनजाति की विशेषताओं के बारें मे चर्चा करेगें।
जनजाति

जनजाति की परिभाषा 

 राल्फ लिटंन के अनुसार= " सरलतम रूप मे जनजाति ऐसी टोलियों का एक समूह है। जिसका एक सानिध्य वाले भूखण्ड़ो पर अधिकार हो और जिनमें एकता की भावना, संस्कृति में गहन सामान्यतः निरंतर संपर्क तथा कतिपय सामुदायिक हितों में समानता से उत्पन्न हुई हो।
डाॅ. घुरिये के अनुसार= "भारत मे जनजाति पिछड़े हुए हिन्दू है।"
हाॅबेल के शब्दों मे= "जनजाति या प्रजाति विशिष्ट जननिक रचना के फलस्वरूप उत्पन्न होने वाले शारीरिक लक्षणों का एक विशिष्ट संयोग रखने वाले अंतः संबंधित मनुष्यों का एक वृहत समूह मजूमदार के अनुसार= "कोई जनजाति परिवारों का ऐसा समूह है जिसका एक समान नाम है जिसके सदस्य एक निश्चित भूभाग पर निवास करते है तथा विवाह व व्यवसाय के संबंध मे कुछ निषेधाज्ञाओं का पालन करते है।
विभिन्न विद्वानों द्वारा दी गई जनजाति की परिभाषाओं के बाद अब हम जनजाति की विशेषताएं जानेंगे।
जनजाति समाज

जनजाति की विशेषताएं 

1. प्रत्येक जनजाति के एक नाम
सभी जनजाति समूह के अलग-अलग नाम होता है जिसके द्वार उसे पहचाना जाता है।
2. सामान्य भू-भाग 
जनजातियों का संबंध निश्चित भू-भाग से होता है निश्चित भू-भाग में निवास करने से उनमें सामुदायिक भावना का विकास होता है।
3. जनजाति परिवारों का समूह है
एक जनजाति में समान लक्षण वाले परिवारों का समूह होता है। कुछ परिवारों से मिलकर एक नातेदारी समूह का निर्माण होता है और इसी तरह नातेदारी समूहों के अंत: संबंधो के आधार पर जनजाति समूह विकसित हो जाता है।
4. सामान्य भाषा
जनजाति की अपनी एक सामान्य भाषा होती है जिसका उपयोग वे अपने विचारों के आदान-प्रदान के लिए करती है।
5. शिक्षा का अभाव 
जनजाति समूह मे शिक्षा का आभाव बहुत ही अधिक होता है। भारत सरकार ने शिक्षा के आभाव को दूर करने के लिए अनेक दम भी उठाए है।
6. अंतर्विवाह
जनजातियों मे अंतर्विवाह का पिरचनल से एक जनजाति के लोग दुसरी जनजाति मे विवाह नही करते।
7. आत्म-निर्भरता 
जनजाति समूह मे आत्म-निर्भरता पाई जाती है भौतिकता के दौर मे जीवन की आवश्यकताओं को पूरा करने मे जनजाति समूह स्वयं सक्षम होते है।
दोस्तो जनजाति से सम्बन्धित या फिर इस लेख से सम्बन्धित आपका किसी प्रकार का कोई विचार है तो नीचे comment कर जरूर बताए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें